featured post

एक अपील

ऐ घर पे बैठे तमाशबीन लोग लुट रहा है मुल्क, कब तलक रहोगे खामोश शिकवा नहीं है उनसे, जो है बेखबर पर तु तो सब जानता है, मैदान में क्यों नही...

Saturday, 23 June 2012

और ये कहते है हो रहा भारत निर्माण (And they say Bharat Nirman is going on)

No comments:
ऊपर से निचे तक हर कोई कर रहा भ्रष्टाचार
और ये कहते है हो रहा भारत निर्माण

महंगाई करो कम ,जनता कर रही ये पुकार
कम होने के बजाय ले रहा ये दैत्याकार
बढती बेरोजगारी से मचा है हाहाकार
ये सब देखते हुए भी चुप बैठी है सरकार
ऊपर से निचे तक हर कोई कर रहा भ्रष्टाचार
और ये कहते है हो रहा भारत निर्माण

अपराधियों को सजा न मिल पा रही
गुंडागर्दी दिनोदिन बढते जा रही
न्याय के चौखट पर अन्याय हो रही
पर सरकार तो चैन की नींद सो रही
ऊपर से निचे तक हर कोई कर रहा भ्रष्टाचार
और ये कहते है हो रहा भारत निर्माण

किसान और मजदुर आज तड़प रहा
उनकी मेहनत का सही कीमत न मिल रहा
लोग इलाज की कमी में मर रहे
क्योकि डाक्टर समय से न मिल रहे
ऊपर से निचे तक हर कोई कर रहा भ्रष्टाचार
और ये कहते है हो रहा भारत निर्माण

Friday, 22 June 2012

भ्रष्ट नेता और बेईमान अफसर (corrupt politician and dishonest officer)

No comments:
भ्रष्ट नेता और बेईमान अफसर
करते है भ्रष्टाचार इस कदर

जनता को ठेंगा दिखाकर
कोठियां भरते है अपनी
जो इनके खिलाफ बोले
देते ये उन्हें धमकी चमकी
भ्रष्ट नेता और बेईमान अफसर
करते है भ्रष्टाचार इस कदर

सडको को कागजो में बनाकर
मरम्मत का भी पैसा निकालते
गरीबो तक आनाज पहुचने से पहले
ये सारा माल है बेच डालते
भ्रष्ट नेता और बेईमान अफसर
करते है भ्रष्टाचार इस कदर

इमानदारी से कोई करे काम
तो करते है ये उसका जीना हराम
अपनी शक्ति का दुरूपयोग है करते
आमजन को डराते फिरते
भ्रष्ट नेता और बेईमान अफसर
करते है भ्रष्टाचार इस कदर

प्रकृति बाते करती है मुझसे (Nature talks with me)

7 comments:
प्रकृति बाते करती है मुझसे
पानी कहती है
जिस रंग में मिलो उस रंग का हो जाओ
बादल कहती है
सुखा मिटाओ
प्रकृति बाते करती है मुझसे
हवा कहती है
बढते चले जाओ
आग कहती है
दुसरो के लिए अपने को जलाओ
प्रकृति बाते करती है मुझसे
पर्वत कहती है
अपने को ऊपर उठाओ
पेड़ कहती है
दुसरो को शीतलता पहुचाओ
प्रकृति बाते करती है मुझसे

प्रकृति (Nature)

56 comments:
ये प्रकृति शायद कुछ कहना चाहती है मुझसे
ये कान के पास से गुजरती हवाओ की सरसराहट
ये पेड़ो पर फुदकते चिड़ियों की चहचहाहट
ये समुन्दर की लहरों का शोर
ये बारिश में नाचती मोर
कुछ कहना चाहती है मुझसे
ये प्रकृति शायद कुछ कहना चाहती है मुझसे
ये चांदनी रात
ये तारों की बरसात
ये खिले हुए सुन्दर फूल
ये उड़ते हुए धुल
कुछ कहना चाहती है मुझसे
ये प्रकृति शायद कुछ कहना चाहती है मुझसे
ये नदियों की कलकल
ये मौसम की हलचल
ये पर्वत की चोटियाँ
ये झींगुर की सीटियाँ
कुछ कहना चाहती है मुझसे
ये प्रकृति शायद कुछ कहना चाहती है मुझसे


Wednesday, 20 June 2012

ज़िन्दगी एक पहेली है (Life is a puzzle)

No comments:
ज़िन्दगी एक पहेली है
समझ जाओ तो एक सहेली है

सुख और दुःख दो साथी है
मस्ती में जियो तो एक झाकी है
गम के बाद ख़ुशी तो आनी होती है
हर ज़िन्दगी की अपनी एक कहानी होती है

ज़िन्दगी एक पहेली है
समझ जाओ तो एक सहेली है

बुरे दिनों में रुलाती है
तो अच्छे दिनों  में हसाती है
समय समय  में तडपाती है
तो कभी कभी मुस्कुराती है

ज़िन्दगी एक पहेली है
समझ जाओ तो  एक सहेली है

पाठ नए नए पढ़ाती है
हमेशा कुछ नया सिखाती है
कभी पुरानी यादे ताजा कर जाती है
तो कभी भविष्य की चेतावनी दे जाती है

ज़िन्दगी एक पहेली है
समझ जाओ तो एक सहेली है




पर खुद को बदलने से मै डरता हु (I have been afraid of changing myself)

No comments:
दुनिया  बदलने की ख्वाहिश मै रखता हु
पर खुद को बदलने से मै डरता हु

परिवर्तन तो तब आएगा
जब ऐशो आराम की ज़िन्दगी को छोड़ा जायेगा
दर्द के साथ जीना होगा
हर गम को पीना होगा

दुनिया  बदलने की ख्वाहिश मै रखता हु
पर खुद को बदलने से मै डरता हु

ज्ञान को बढाना होगा
अज्ञानता को दूर भगाना होगा
अग्निपथ पे बढते जाना होगा
मुश्किलों से टकराना होगा

दुनिया  बदलने की ख्वाहिश मै रखता हु
पर खुद को बदलने से मै डरता हु

सादा जीवन बिताना होगा
उच्च विचार बनाना होगा
माया मोह का त्याग कर जाना होगा
सन्यास धर्म अपनाना होगा

दुनिया  बदलने की ख्वाहिश मै रखता हु
पर खुद को बदलने से मै डरता हु


Tuesday, 19 June 2012

परीक्षा

No comments:
परीक्षा हमें डराती है
रातों को जगाती है

बड़ी बड़ी किताबों में छोटे छोटे नियम
रेत के ढेर में सुई ढूढने जैसे करम
पास्कल का नियम हो या न्यूटन का
ये सब कारण है हमारे घुटन का
परीक्षा हमें डराती है
रातों को जगाती है

रेखागणित समझ नहीं आता
प्रश्न हल करते वक़्त है अँधेरा छाता
इतिहास तो नहीं होता याद
आखिर किससे करे हम फरियाद
परीक्षा हमें डराती है
रातों को जगाती है

भूगोल के अक्षांश देशांश
करते है हमको परेशान
संस्कृत के शब्द है कठिनतम
जिसको याद नहीं कर पाते हम
परीक्षा हमें डराती है
रातों को जगाती है

अंग्रेजी का बोझ भारी है
क्योकि परायी भाषा ये हमारी है
हिंदी हमको प्यारी है
क्योकि मातृभाषा ये हमारी है
परीक्षा हमें डराती है
रातों को जगाती है

सोचता हु कवि बन जाऊ (I have been thinking of becoming a poet)

1 comment:
जी करता है कुछ ऐसा कर जाऊ
की जग में अपना नाम कमाऊ
सोचता हु की कवि बन जाऊ
अच्छी कविताये लोगो को सुनाऊ
पर समझ नहीं आ रहा क्या लिखू
किस चीज़ के बारे में कहू
सकारात्मक लिखू या नकारात्मक
हास्यास्पद लिखू  या व्यंग्यात्मक
लिखने के लिए बहुत सारे विषय है
तेजी से बीत रहा समय है
चलो आमजन की ज़िन्दगी को चुनता हु
क्योकि इस विषय पर बहुत कम सुनता हु
नया होता है रोज इनकी ज़िन्दगी में
भले ही रहते है ये गन्दगी में
उच्च आदर्शो में ये चलते है
भले ही रोज गिरते गिरते सम्हलते है
जीवन में खूब संघर्ष ये करते है
दिनभर मेहनत करके दो वक्त का पेट भरते है

एक शाम बड़ी सुहानी थी (A evening was very pleasant )

No comments:
एक शाम बड़ी सुहानी थी
ठंडी पवन कर रही अपनी मनमानी थी

सूरज धीरे धीरे ढल रहा था
देख के उसको मेरा दिल मचल रहा था
आसमान में लालिमा छाई थी
प्रकृति सबसे सुन्दर रूप में आई थी
एक शाम बड़ी सुहानी थी
ठंडी पवन कर रही अपनी मनमानी थी

समुन्दर किनारे बैठे थे हम
दोस्तों के बीच बाँट रहे थे गम
लहरे गुनगुना रही थी
दिल में हलचल मचा रही थी
एक शाम बड़ी सुहानी थी
ठंडी पवन कर रही अपनी मनमानी थी

शुरू जब चुटकुलों का दौर हुआ
ठहाको का शोर चारो ओर हुआ
मौसम का लुफ्त उठाया हमने
जब मिलकर गीत गाया सबने
एक शाम बड़ी सुहानी थी
ठंडी पवन कर रही अपनी मनमानी थी

Monday, 18 June 2012

थक कर रुकना न कभी यूँही डगर में

No comments:
थकान तो लगती है सभी को
यूँही सफ़र में
पर थककर रुकना न कभी
यूँही डगर में
मुश्किलों से भरी है राहें तेरी
पर ये बात मान ले मेरी
हथियार कभी डालना नहीं
हार कभी मानना नहीं
थकान तो लगती है सभी को
यूँही सफ़र में
पर थककर रुकना न कभी
यूँही डगर में
जो रुकता नहीं राहों में
जीत होती है उसकी बांहों में
तू हर वक़्त रह तैयार
तेरी ही ओर चलेगी हर बयार
थकान तो लगती है सभी को
यूँही सफ़र में
पर थककर रुकना न कभी
यूँही डगर में
तूफान तेरा रास्ता क्या रोक पायेगा
जब तू हिम्मत से बढ़ता जायेगा
समुन्दर की लहरे भी तेरा रास्ता न रोक पाएंगी
तेरा हौसला तेरी नाव को किनारे तक लायेंगी
थकान तो लगती है सभी को
यूँही सफ़र में
पर थककर रुकना न कभी
यूँही डगर में